Daily Archives: સપ્ટેમ્બર 24, 2018


सआदत हसन मंटो की कलम से निकले दस बेहतरीन अफसाने..

ये मंंटो की कलम से निकले दस बेहतरीन अफसाने है। उन्हें आप लघुकथा कह लीजीए या माइक्रोफिक्शन, वो किसी भी नाम के मोहताज नहीं। मंटो फिल्म देखी है तब से ये हाल है की वो दिलोदिमाग पर छाए हुए है.. उनके अफसाने अपना असर जमाए हुए है। किरदार जो फिक्शनकी हदों को तोडकर बाहर आते है और आपको छू कर, झकझोरके अपनी मौजूदगीका एह्सास कराते है। वो अफसाने जो परेशान करते है, अखरते है, खटकते है पर उन्हें झुटलाया नहीं जा सक्ता। मंटोने इन्सानी फितरतको पूरा नंगा करके रख दिया है, और मजेकी बात ये की फिरभी आप उसका मजहब नहीं पहचान पाएंगे.. बिलकुल उनके अफसाने ‘इस्लाह’ की तरह जो नौवें नंबर पर पढ सकेंगे।